रविवार के दिन झाड़ू खरीदना चाहिए कि नहीं

रविवार के दिन झाड़ू खरीदना चाहिए कि नहीं: क्या रविवार का झाड़ू घर को अशुभ करता है? जानें सच्चाई, परंपरा और तर्क का मेल. शुभ मुहूर्त और सावधानियां भी पढ़ें.

रविवार का झाड़ू, घर का भाग्य! क्या सच है इस मान्यता में?

भारतीय संस्कृति में रोजमर्रा की वस्तुओं से भी जुड़े अनोखे विश्वास पनपे हैं. झाड़ू भी ऐसी ही एक चीज है, जिसके इर्द-गिर्द कई मान्यताएं प्रचलित हैं. उनमें से एक है रविवार को झाड़ू खरीदने को लेकर. आइए, आज तर्क और परंपरा के धुंधलके में इस पहेली को सुलझाएं.

रविवार को झाड़ू खरीदना: अशुभ का साया या अलंकरण?

हिंदू धर्म में रविवार को सूर्य देव का दिन माना जाता है. सूर्य सृष्टि के कारक तत्व, शुभता और सकारात्मक ऊर्जा के प्रतीक हैं. इसी वजह से रविवार को पूजा-पाठ, मंगल कार्य और शुभ खरीदारी करने की परंपरा है. कुछ मान्यताएं कहती हैं कि रविवार को झाड़ू खरीदने से दरिद्रता आती है, क्योंकि झाड़ू गंदगी को स्वीकारने का प्रतीक है. लेकिन, कई विद्वान इस मत से भिन्न राय रखते हैं. उनके अनुसार, झाड़ू का मुख्य काम घर को स्वच्छ रखना है, जो सकारात्मक ऊर्जा का ही सूचक है. इसलिए, रविवार को झाड़ू खरीदना अशुभ नहीं, बल्कि घर को शुद्धता व समृद्धि प्रदान करने वाला बताया जाता है.

See also  Pete Davidson: The Hilarious Star of Saturday Night Live

झाड़ू खरीदने का शुभ मुहूर्त: तर्क और विश्वास का संगम

यदि आप परंपराओं में विश्वास रखते हैं, तो कुछ बातें जरूर ध्यान रखें. शास्त्रों के अनुसार, झाड़ू कृष्ण पक्ष में खरीदना श्रेष्ठ माना जाता है. शुभ दिनों में सोमवार, मंगलवार, शनिवार और अमावस्या शामिल हैं. वहीं, सोमवार और शुक्ल पक्ष में झाड़ू खरीदने से बचना चाहिए. यह भी ध्यान रखें कि झाड़ू हमेशा जोड़ी में खरीदनी चाहिए, जो कि संतुलन और सुख-समृद्धि का प्रतीक है.

निष्कर्ष: आपका विश्वास, आपका निर्णय

रविवार को झाड़ू खरीदने की परंपरा को लेकर मतभेद जरूर हैं, लेकिन अंतिम निर्णय आपका है. यदि आप तर्क से सहमत हैं, तो रविवार को भी जरूरत पड़ने पर झाड़ू खरीद सकते हैं. परंपराओं में आस्था रखते हैं, तो शुभ दिनों और मुहूर्त का पालन कर सकते हैं. याद रखें, झाड़ू का असली शुभत्व घर को स्वच्छ रखने और सकारात्मकता लाने में निहित है.

Share
Follow Us
Facebook