कोलकाता से गंगासागर कितनी दूर है

कोलकाता से गंगासागर कितनी दूर है? गंगासागर कोलकाता से लगभग 150 किलोमीटर दूर है।

गंगासागर की पवित्र यात्रा: कोलकाता से दूरी और यात्रा के विकल्प

हिंदू धर्म में गंगासागर का विशेष महत्व है। हर साल मकर संक्रांति के अवसर पर लाखों श्रद्धालु यहां स्नान कर पुण्य अर्जित करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कोलकाता से गंगासागर कितनी दूर है और वहां पहुंचने के लिए क्या-क्या विकल्प मौजूद हैं?

कोलकाता से गंगासागर की दूरी

रास्ते की स्थिति और यात्रा के तरीके के आधार पर कोलकाता से गंगासागर की दूरी थोड़ी कम या ज्यादा हो सकती है, लेकिन सड़क मार्ग से यह दूरी लगभग 119 किलोमीटर है।

यात्रा के विकल्प

  • कार: निजी कार या टैक्सी से गंगासागर की यात्रा सबसे सुविधाजनक है। हालांकि, आपको त्योहार के दौरान भारी ट्रैफिक का सामना करना पड़ सकता है। इस रास्ते में NH12 हाइवे का इस्तेमाल किया जाता है और यात्रा में लगभग 4 घंटे 18 मिनट का समय लग सकता है।

  • ट्रेन: गंगासागर जाने के लिए सीधी ट्रेन सेवा उपलब्ध नहीं है। आपको पहले सियालदह से ट्रेन लेकर काकद्वीप जाना होगा, फिर वहां से जहाज के जरिए मूड़ीगंगा नदी पार कर सागर द्वीप पहुंचना होगा। वहां से सड़क मार्ग से कपिल मुनि आश्रम तक पहुंचा जा सकता है। इस पूरे सफर में 4 से 5 घंटे का समय लग सकता है।

  • बस: कोलकाता से गंगासागर के लिए कई प्राइवेट बसें चलती हैं। यह विकल्प सबसे किफायती है, लेकिन इसमें सबसे ज्यादा समय लग सकता है, खासकर त्योहार के सीजन में।

See also  फुटकर व्यापारी किसे कहते हैं

यात्रा का सुझाव

अगर आप पहली बार गंगासागर की यात्रा कर रहे हैं, तो कार या टैक्सी से जाना सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है। लेकिन अगर आप बजट की बचत करना चाहते हैं तो बस यात्रा पर विचार कर सकते हैं। त्योहार के दौरान भारी ट्रैफिक की उम्मीद करें और यात्रा के लिए पर्याप्त समय निकालें।

गंगासागर में दर्शनीय स्थल

गंगासागर में स्नान के अलावा भी कई दर्शनीय स्थल हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • कपिल मुनि आश्रम
  • बाबा गंभीरनाथ मंदिर
  • वरुणा तीर्थ
  • सूर्य मंदिर

गंगासागर की यात्रा अध्यात्मिक अनुभव के साथ-साथ पर्यटन का भी एक शानदार अवसर है। हम उम्मीद करते हैं कि यह जानकारी आपके लिए मददगार साबित होगी।

यात्रा के दौरान सुरक्षा और सावधानियां

  • गंगासागर की यात्रा के दौरान मौसम की स्थिति का ध्यान रखें और गर्म कपड़े साथ रखें।
  • त्योहार के दौरान भारी भीड़ होने की संभावना है, इसलिए अपना सामान संभाल कर रखें।
  • पवित्र नदी में स्नान करने से पहले स्नानघरों का इस्तेमाल करें।
  • यात्रा के दौरान पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं और हल्का खाना खाएं।
See also  कबीर दास के 10 दोहे - एक अद्भुत दर्शन का स्रोत

गंगासागर की यात्रा जीवन का एक अविस्मरणीय अनुभव हो सकती है। हम उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपकी यात्रा की योजना बनाने में आपकी मदद करेगा।

Share
Follow Us
Facebook